वाट्स एप पर मुहिम, खुले में शौच से मुक्त हुई पंचायत

Friday, September 4, 2015 - 15:47

रामेश्वर बेड़ा, जोधपुर

 

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की प्रेरणा शेरगढ़ तहसील के चुतरपुरा गाँव के लिए मिसाल बन गई है। गाँव के युवाओं ने अनूठी पहल करते हुए सोशल मीडिया के माध्यम से ग्राम पंचायत को खुले में शौच मुक्त कर दिया है। मिशन के मार्फत कई ढाणियाँ आजादी के 68 साल बाद खुले में शौच से मुक्त हुई। पंचायत समिति ने शेरगढ़ की चुतरपुरा गाँव के ग्रामसेवक विशनाराम को 30 जुलाई को दूसरी बार नोटिस थमाया, क्योंकि गाँव व ढाणियों में शौचालय निर्माण की प्रगति आशाजनक नहीं रही। इस पर ग्राम सेवक ने गाँव के नौजवानों से सहयोग माँगा। स्नातक उत्तीर्ण भँवरराम चौधरी ने वाट्स एप पर ‘साथ आएँ-हाथ बढ़ाएँ’ नाम से ग्रुप तैयार किया और घर-घर शौचालय निर्माण का अभियान शुरू किया। ग्रुप से 60 युवाओं को जोड़ते हुए गाँव-ढाणी के घरों का सर्वे करके लोगों को स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय बनाने के लिए प्रेरित किया। नई सरकारी योजनाओं की सूचना ग्रुप में आते ही घर-घर पहुँचने लगी।

 

30 जुलाई से 30 अगस्त युवा टीम ने मिलकर गाँव और तीन ढाणियों में 60 शौचालयों का निर्माण करवाया। धीरों की ढाणियों से जुड़े चिकित्सक परमेश्वर ने तीस परिवारों को तैयार कर उनके घरों में शौचालय बनवाए। इसमें रावल राम जांगिड़, सतुराम जांगिड़ के अलावा ढाणी के लोगों ने सहयोग किया। ऊदाणी सारणों की ढाणी के दस युवा इस ग्रुप से जुड़े। उन्होंने 10 शौचालय बनवाए। कम्पांउडर चेतन सिंह, सहायक ग्राम सेवक रावल सिंह, नरेन्द्र सोऊ, जगदीश सारण, भँवर पेमाणी, रावत राम सोऊ पूनाराम, मोहनलाल सारण, गोरधन राम, बाबूलाल सारण, डिगेदर प्रसाद ने ग्रुप के माध्यम से घर-घर तक सूचना पहुँचा दी। ग्रुप सदस्यों ने गाँव की समस्याओं पर जनप्रतिनिधियों एवं सरकारी कार्मिकों से बात करके समाधान खोज निकाले। युवा टोली ने चरणों की ढाणी में 20 शौचालय बनाकर खुले में शौच से मुक्त कर दिया। धीरों की ढाणी में 15, चुतरपुरा में 15 शौचालय बनाए हैं।

 

गाँव-ढाणी में सूचना का कोई साधन नहीं होने पर वाट्स एप पर शौचालय निर्माण अभियान तो चलाया ही साथ में नौकरियों की जानकारी भी देते हैं। ग्राम सभा, वार्ड सभाएँ, आम सभा की समय पर जानकारी मिलने से लोग भी अपने अधिकारों को लेकर जागरुक हुए हैं- भँवरराम चौधरी, एडमिन, ‘साथ आएँ-हाथ बढ़ाएँ’ वाट्स एप ग्रुप।

 

इस ग्रुप ने अच्छा काम किया है। इससे हमें भी घर-घर तक पहुँचने में मदद मिलेगी। उम्मीद है दूसरे युवा भी इनसे प्रेरणा लेंगे- अरुण कुमार पुरोहित, सीईओ, जिला परिषद, जोधपुर।

 

साभार : राजस्थान पत्रिका 3 अगस्त 2015

TAGS