स्वच्छता पर बनी फिल्म को इंडिया इंटरनेशनल साइंस फिल्म अवार्ड

Thursday, December 10, 2015 - 10:09

राजु कुमार

 

डॉक्यूमेंट्री फिल्म मेकर अजित कुमार सिंह द्वारा निर्देशित एनिमेटेड फिल्म ‘स्वच्छ गाँव, स्वस्थ गाँव’ को इंडिया इंटरनेशनल साइंस फिल्म अवार्ड मिला है। दिल्ली में आयोजित सम्मान समारोह में वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. यशपाल ने उन्हें यह अवार्ड दिया। स्वच्छ भारत की श्रेणी में सम्मानित इस फिल्म को स्वच्छता के मुद्दे पर कार्यरत संस्थाओं एवं समूहों द्वारा भी सराहना मिलती रही है। फिल्म के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता को लेकर फैली भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास किया गया है।

 

दिल्ली के आई.आई.टी. में 4 से 8 दिसम्बर तक विज्ञान एवं तकनीकी मन्त्रालय और पृथ्वी विज्ञान मन्त्रालय, भारत सरकार के सहयोग से विजनना भारती एवं टेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन, फोरकास्टिंग एंड असेसमेंट काउंसिल द्वारा इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल का आयोजन किया गया। इसके तहत विज्ञान प्रसार, भारत सरकार द्वारा इंडिया इंटरनेशनल साइंस फिल्म फेस्टिवल का भी आयोजन किया गया। फिल्म समारोह के समन्वयक विज्ञान प्रसार, भारत सरकार के साइंस फिल्म डिविजन के प्रमुख निमिष कपूर ने बताया कि इस बार तीन श्रेणियों- डिजिटल इंडिया, स्वच्छ भारत एवं सांइस एंड सोसायटी, में फिल्मों को आमन्त्रित किया गया था। सम्मानित फिल्मों की स्क्रिनिंग भी की गई। फिल्म समारोह का उद्देश्य विज्ञान फिल्मों को बढ़ावा देना है। स्वच्छता आज का एक प्रासंगिक विषय है। इसके अभाव में कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जो व्यक्ति के जीवन पर नकारात्मक प्रभाव छोड़ता है।

 

मध्यप्रदेश के भोपाल के अजित कुमार सिंह लम्बे समय से विकास से जुड़े मुद्दों पर डॉक्यूमेंटरी फिल्म बनाते हैं। वाटर एड, ताल, भोपाल एवं महात्मा गाँधी सेवा आश्रम, ग्वालियर के सहयोग से ग्रामीणों को स्वच्छता के मुद्दे पर जागरूक करने के लिए ‘स्वच्छ गाँव, स्वस्थ गाँव’ नाम से इस फिल्म का निर्माण किया गया। 10 मिनट की इस एनिमेटेड फिल्म के संवाद बहुत ही सहज रखे गए हैं, जो आम लोगों को स्वच्छता, उससे जुड़ी बीमारियों एवं उनसे बचाव के लिए प्रेरित करते हैं। अजित बताते हैं कि स्वच्छता को लेकर कई फिल्में बनी हैं। पर एनिमेटेड फिल्मों के सहज प्रभाव को देखते हुए स्वच्छता को लेकर एनिमेटेड फिल्म निर्माण का निर्णय किया गया। स्वच्छता से जुड़ी अनेक भ्रांतियों को फिल्म के एनिमेटेड कैरेक्टर दूर करने का प्रयास करते हैं और उन भ्रांतियों से उनके जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों को भी वे दर्शाते हैं।

TAGS