स्वच्छता अभियान से मिली प्रेरणा

Wednesday, December 9, 2015 - 09:57

मो. रजा

 

नीदरलैंड से एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद अभिषेक गुप्ता ने कुछ समय मल्टीनेशनल कम्पनी में काम किया। फिर अपना खुद का एडवरटाइजिंग का बिजनेस शुरू किया। लेकिन स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित होकर उन्होंने क्लीन इंडिया नाम से एक वेंचर शुरू किया।

 

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान ने देशवासियों में एक लौ जगाने की कोशिश की है। आज लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता है। सफाई को लेकर सजग हैं। जहाँ एक तरफ लोगों में इस अभियान को लेकर जागरूकता बढ़ी है, वहीं कई युवा इससे जुड़कर न सिर्फ स्वच्छता के मिशन को आगे बढ़ा रहे हैं बल्कि लोगों के लिए रोजगार के नए रास्ते भी खोल रहे हैं। एमबीए प्रोफेशनल अभिषेक गुप्ता ने भी स्वच्छता अभियान से प्रेरित होकर क्लीन इंडिया नाम से एक वेंचर शुरू किया है। इसके जरिए अभिषेक वेस्ट जैसे फूल, पत्तियाँ, सब्जी इत्यादि से फर्टिलाइजर, स्मोक फ्री फ्यूल, फ्यूल स्टिक जैसे प्रोडक्ट बनाते हैं। इससे किसी भी तरह का पॉल्युशन नहीं होता। साथ ही ग्रीन वेस्ट का सही उपयोग हो जाता है।

 

ग्रीन वेस्ट का सही इस्तेमाल

 

अभिषेक कहते हैं कि इस वेंचर से ग्रीन वेस्ट का सही इस्तेमाल होता है। पहले लोग ग्रीन वेस्ट को फेंक देते थे, लेकिन अब वे इस ग्रीन वेस्ट से पेड़-पौधों के लिये फर्टीलाइजर तैयार कर सकते हैं। अभिषेक के मुताबिक वे लोगों के पास जाते हैं और उन्हें पर्यावरण के प्रति जागरूक करने की कोशिश करते हैं। बहुत से लोगों को उनका यह आइडिया पसंद आया है।

 

कैसे करते हैं काम

 

किसी इलाके में सेटअप लगाने से पहले अभिषेक वहाँ की लोकल बॉडी जैसे आरडब्ल्यूए या नगर निगम के अधिकारियों से बात करते हैं और उन्हें अपने प्रोजेक्ट की जानकारी देते हैं। सबसे पहले वे उस जगह का सलेक्शन करते हैं जहाँ ऑर्गेनिक वेस्ट काफी मात्रा में निकलता है। मशीन लगाने के लिये बहुत थोड़े स्पेस की जरूरत होती है। इलाके से एकत्र किये गये ऑर्गेनिक वेस्ट की प्रोसेसिंग शुरू होती है। लोगों की जरूरत के मुताबिक वेस्ट को कम्पोस्ट और फ्यूल स्टिक में तैयार किया जाता है। इन स्टिक का इस्तेमाल कोयले और लकड़ी के विकल्प के रूप में किया जा सकता है। इससे किसी भी तरह का पॉल्यूशन नहीं होता है।

 

टीम

 

अभिषेक के साथ फिलहाल उनके फैमिली मेम्बर और मनोज पाठक जुड़े हुए हैं। इसके अलावा उन्होंने फरीदाबाद और दिल्ली कैंट में अपना सेटअप लगाया है। मशीन को रन करने के लिये चार लोगों की जरूरत होती है। अभिषेक के मुताबिक जितनी ज्यादा मशीने लगाई जाएंगी उतने ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा

 

प्लानिंग

अभिषेक की प्लानिंग क्लीन इंडिया वेंचर को दूसरे स्टेट में भी ले जाना है। फिलहाल उनकी बात महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेश सरकार से चल रही है। दिल्ली में भी कई आरडब्ल्यूए सोसायटी और म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन से बात कर रहे हैं। उनका मिशन 2016 में दिल्ली में 30 से ज्यादा मशीने लगाने का है।

 

आइडिया

 

अभिषेक कहते हैं कि उन्हें हमेशा से पर्यावरण को लेकर चिन्ता रहती है। जिस तरह से पर्यावरण खराब हो रहा है अगर समय रहते उस पर ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाली पीढ़ी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। अभिषेक एक एडवरटाइजिंग एजेंसी चलाते थे, लेकिन फिर स्वच्छ भारत अभियान ने उनमें पर्यावरण के लिये काम करने की प्रेरणा दी। अभिषेक ने अपने साथी मनोज पाठक के साथ मिलकर एक मशीन तैयार की। इस मशीन से वह फर्टीलाइजर और फ्यूल स्टिक तैयार करते हैं।

 

साभार: राष्ट्रीय सहारा 8 दिसम्बर 2015

TAGS